0,00 ₹

No products in the cart.

Free shipping on any purchase of ₹299 or more!

[email protected]

+91 8762939845

0,00 ₹

No products in the cart.

Ashwagandha Ke Fayde: अश्वगंधा के 7 जबरदस्त फायदे

More articles

Gharooti Teamhttps://ghargooti.com
Ghargooti Team at Ghargooti.com is a team of Health experts led by Akshay Anvekar. Trusted by over a Million readers worldwide.

Ashwagandha Ke Fayde: पुराने काल से भारत में अश्वगंधा का उपयोग आयुर्वेद के उपचार के लिए किया जा रहा है। अश्वगंधा के फायदे इतने हैं कि उन्हें जानकर आप हैरान रह जाएंगे इसलिए हम उन्ही फायदों के बारे में बात करने वाले हैं।

अश्वगंधा के पत्तों और जड़ो में घोड़े की मूर्ति की गंध आती है। इस वजह से इसका नाम अश्वगंधा पड़ा है, ऐसा कहा जाता है। दुनियाभर में अश्वगंधा की खेती होती है, जैसे कि भारत, पाकिस्तान, श्रीलंका, जॉर्डन, मिस्र आदि। भारत में तो ज्यादातर राजस्थान और मध्य प्रदेश में इसकी खेती बड़े स्तर पर होती है। 

Ashwagandha Ke Fayde
Ashwagandha Ke Fayde

इसके अलावा पंजाब, गुजरात, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र और हिमाचल प्रदेश में भी इसकी खेती की जाती है। अश्वगंधा का उपयोग कई सारे बीमारियों को ठीक करने के लिए किया जाता है। यहां पर हम एक-एक करके अश्वगंधा के सभी फायदों के सूची की जानकारी प्रदान करने वाले हैं।

अश्वगंधा के फायदे – Benefits of Ashwagandha

1. अश्वगंधा से पेट की बीमारी से छुटकारा

आजकल बहुत सारे लोगों में पेट की बीमारी पाई जाती है। यदि आप भी पेट की बीमारी से जूझ रहे हैं, तो रोजाना दो से 4 ग्राम की मात्रा में अश्वगंधा के साथ में शहद या फिर गुड़ मिलाकर इसका सेवन करने से पेट के कीड़े खत्म हो जाते हैं। इसके अलावा अन्य पेट से जुड़ी समस्या भी दूर हो जाती है।

2. कब्ज से राहत पाने के लिए अश्वगंधा

यदि थोड़े दिनों तक 2 ग्राम मात्रा में अश्वगंधा का सेवन गुनगुने पानी के साथ करने से आपको कब्ज में राहत मिलेगी। आजकल बहुत सारे लोगों को कब्ज की समस्या होती है। अश्वगंधा पेट से जुड़ी बहुत सारी समस्याओं को खत्म करने में अमृत है। इस वजह से बहुत सारे लोग कब्ज के लिए भी अश्वगंधा का इस्तेमाल करते हैं।

3. गुम गठिया के लिए भी फायदेमंद

कई सारे ऐसे लोग भी हैं जो गठिया जैसे दर्दनाक बीमारी से जूझ रहे हैं। यदि 2 ग्राम अश्वगंधा पाउडर को गर्म दूध या फिर गुनगुने पानी के साथ शहद मिलाकर सुबह-शाम लेने से गठिया के मरीजों में जबरदस्त फायदा पहुंचता है। ऐसा करने से कमर दर्द और नींद ना आने की समस्या से भी छुटकारा मिल जाता है।

4. शारीरिक कमजोरी को दूर भगाए

ऐसा कहा जाता है कि अश्वगंधा के साथ मिश्री और शहद को कुछ महीनों तक लेने से भी शरीर की कमजोरी दूर भाग जाती है। आजकल बहुत सारे आयुर्वेदिक ब्रांड्स ऐसे ऐसे प्रोडक्ट तैयार कर रहे हैं, जिसमें मुख्य पदार्थ अश्वगंधा होता है, जिससे शारीरिक कमजोरी दूर हो जाती है और शरीर बलवान हो जाता है।

5. लिंग की कमजोरी को करें दूर

भोजन से 3 घंटे पहले आप अश्वगंधा चूर्ण को कपड़े से छानकर उसमें खांड मिलाकर गाय की ताजा दूध के साथ सेवन करने से जबरदस्त लाभ पहुंचता है। इसके अलावा कई सारे अन्य चीजों के साथ अश्वगंधा को लिंग के ऊपर भी लगाया जाता है। इस जानकारी के लिए आप अपने नजदीकी आयुर्वेदिक डॉक्टर से जरूर सलाह लीजिये।

6. रक्त विकार से भी छुटकारा

रक्त में होने वाली समस्या से भी बहुत सारी बीमारियां शरीर में आ जाती है, जैसे कि नींद ना आना, थकावट और अन्य बहुत बड़ी बड़ी बीमारियां। यदि अश्वगंधा चूर्ण के साथ बराबर मात्रा में चिरायता का चूर्ण मिलाकर सेवन करने से रक्त विकार की समस्या दूर हो जाती है।

7. टीबी रोग में भी लाभकारी

क्षय रोग गंभीर बीमारी है, जिसका इलाज जल्द से जल्द होना बेहद जरूरी है। अश्वगंधा के साथ पीपल का चूर्ण, देसी गाय का घी और शहद मिलाकर सेवन करने से टीबी रोग से राहत मिलती है। कई सारे लोग अश्वगंधा से बने काढ़े का भी सेवन करते हैं।

और भी बहुत सारे बीमारियों से छुटकारा पाने के लिए और शरीर को सेहतमंद बनाने के लिए अश्वगंधा का उपयोग हजारों साल से किया जाता है। लेकिन किसी भी आयुर्वेदिक चीज का सही इस्तेमाल करना बेहद जरूरी है, नहीं तो इसके दुष्परिणाम भी शरीर में हो सकते हैं। किसी भी चीज का उपयोग करने से पहले जानकार या फिर डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

अश्वगंधा और दूध पीने से क्या होता है?

यदि अश्वगंधा के साथ दूध पीते हैं तो उससे घटिया से राहत मिलेगी और कमजोरी दूर होगी।

अश्वगंधा पाउडर खाने से क्या होता है?

अश्वगंधा पाउडर का सेवन करने से बैड कोलेस्ट्रॉल कम होता है और गुड कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है, जिससे दिल की बीमारियों की समस्या दूर हो जाती है।

अश्वगंधा कब खाना चाहिए?

रात को सोने से पहले दूध के साथ अश्वगंधा का सेवन करने से जबरदस्त फायदा होता है

अश्वगंधा कितने दिन में असर दिखाता है?

यदि अश्वगंधा के साथ शतावरी चूर्ण का सेवन किया जाए तो 1 हफ्ते के अंदर ही इसका असर दिखने लगता है और शरीर की कमजोरी दूर होने लगती है।

अश्वगंधा चूर्ण कितनी मात्रा में लेना चाहिए?

2 से 4 ग्राम अश्वगंधा चूर्ण का सेवन दिन में करना चाहिए।

इन्हें भी पढ़े:

धन्यवाद…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

LATEST